-->

मेवाड़ का इतिहास और Rajasthan GK Mock Test के माध्यम से सीखें

राजस्थान का गौरव: मेवाड़ का इतिहास और Rajasthan GK Mock Test के माध्यम से सीखें

Question of

"Good Try! You Nailed It!"
You Got out of answers correct!
That's

"लोगों के सवाल ?"
मोहम्मद बिन तुगलक को पागल क्यों कहा जाता है?

मुहम्मद तुग़लक़ को "पागल" कहा जाता है क्योंकि उसके शासनकाल में उसने कई अद्वितीय और असामान्य कदम उठाए थे। वह एक बहुत ही शिक्षित और विद्वान राजा थे, लेकिन उनकी नीतियों और योजनाओं ने उन्हें अद्वितीय बना दिया। उनके दौर के निर्णय और कदमों के बारे में बहुत सी आलोचना हुई है, और उन्हें "स्वप्नशील," "पागल," और "रक्त-पिपासु" जैसे शब्दों से व्यक्त किया गया है। उनके शासनकाल का अध्ययन करने से हम उनके अद्वितीय विचारों और कदमों की समझ प्राप्त कर सकते हैं, जिनसे उन्होंने भारतीय इतिहास में अपनी अलग पहचान छोड़ी।

मोहम्मद बिन तुगलक की प्रमुख योजनाएं कौन कौन सी थी?

उनकी मुख्य योजनाएँ निम्नलिखित थीं:

(1) दोआब की वृद्धि: मोहम्मद बिन तुग़लक़ ने दोआब क्षेत्र की वृद्धि की योजना बनाई थी, जिससे किसानों को उपयोगकर्ता दोआब क्षेत्र में जमीन का अधिक उपयोग करने का अवसर मिलता।
(2) दौलताबाद (देवगिरि) को राजधानी बनाने की योजना: मोहम्मद बिन तुग़लक़ ने दिल्ली के स्थान पर दौलताबाद (देवगिरि) को राजधानी बनाने की योजना बनाई थी, लेकिन इस परियोजना को कार्यरूप में लाने में समस्याएँ आईं और यह योजना पूर्ण नहीं हो सकी।
(3) ताँबे के सिक्के: मोहम्मद बिन तुग़लक़ ने सोना-चाँदी के सिक्कों के स्थान पर ताँबे के सिक्के (सांकेतिक मुद्रा) का चलन किया, जिससे आर्थिक संकट उत्पन्न हुआ।
(4) विजयों की कथित योजना: मोहम्मद बिन तुग़लक़ ने कई विजयों की कथित योजना बनाई, लेकिन इनमें से अधिकांश योजनाएँ कार्यरूप में नहीं आईं और फिर वापस बदल दी गईं।

कर्नल जेम्स टॉड राजस्थान में कब आए थे? कर्नल जेम्स टॉड को क्या कहा जाता है?

कर्नल जेम्स टॉड राजस्थान में कब आए थे, इसका सटीक तिथि उपलब्ध नहीं है, लेकिन उन्होंने लगभग 1805 के आसपास राजस्थान आने का विवरण दिया है। उन्होंने वहाँ जोधपुर के महाराज से मिलकर कई ऐतिहासिक पुस्तकें पढ़ी और अध्ययन किया। इसके बाद, वे लंदन गए और वर्ष 1829 में "एनल्स एंड एंटीक्विटीज ऑफ राजस्थान अथवा सेंट्रल एंड वेस्टर्न राजपूत स्टेट्स ऑफ इंडिया" नामक पुस्तक लिखी।

Note:कर्नल जेम्स टॉड को राजस्थान के इतिहास-लेखन का पितामह माना जाता है।

रावल रतन सिंह की कितनी पत्नियां थीं? रतन सिंह की मृत्यु कैसे हुई?

रावल रतन सिंह की कुल मिलाकर 16 पत्नियाँ थीं, जिनमें पद्मावती उनकी अंतिम पत्नी थीं. उन्होंने अपने जीवन में कई पत्नियों के साथ विवाह किए थे, जो उनके साम्राज्य के प्रसिद्ध और महत्वपूर्ण हिस्से थे। कुछ कथाएँ कहती हैं कि रतन सिंह को अलाउद्दीन खिलजी ने बंदी बनाया और कुछ कथाएँ कहती हैं कि उन्होंने आत्मसमर्पण किया। आपके उल्लेख के अनुसार, 26 अगस्त 1303 को रानी पद्मिनी ने जौहर किया था, जिससे वे अपनी गर्वनरक्षा करने का प्रतिज्ञा करती हैं। इस परिस्थिति में, राजा रतन सिंह की मृत्यु का सटीक कारण निर्धारित करना मुश्किल है और विभिन्न स्रोतों में भिन्न-भिन्न रूपों में वर्णित किया गया है।

पद्मावती समय की भाषा क्या है? पद्मावती रानी कितनी सुंदर थी?

"पद्मावती" महाकाव्य की भाषा अवधी है, और इसे दोहा और चौपाई छन्द में लिखा गया है।रानी पद्मावती को कई कवियों और कथाकारों ने बहुत ही सुंदर वर्णन किया है, और उनकी सुंदरता की कहानी कई कथाओं और गाथाओं में प्रसिद्ध है। इसमें कथाकार बताते हैं कि रानी पद्मावती बड़ी सुंदर थी और उनकी सुंदरता ने अलाउद्दीन खिलजी को प्रभावित किया। खिलजी की सेना ने चित्तौड़ को घेर लिया और उन्होंने रावल रतन सिंह के पास पद्मावती से मिलने का संदेश भेजा। इससे खिलजी का प्यार पद्मावती की सुंदरता के प्रति और भी महत्वपूर्ण बन गया।

मेवाड़ का इतिहास क्या है? महाराणा प्रताप कहाँ के राजा थे?

मेवाड़, जिसे 'उदयपुर राज्य' भी कहा जाता है, राजस्थान के दक्षिण-मध्य भाग में स्थित एक प्रमुख रियासत थी। इसके अधिकारिक नाम 'चित्तौडगढ़ राज्य' भी था। मेवाड़ में उदयपुर, भीलवाड़ा, राजसमंद, चित्तौडगढ़, प्रतापगढ़ और मध्य प्रदेश के नीमच और मंदसौर जिले शामिल थे। मेवाड़ का इतिहास राजपूत और भील योद्धाओं के महत्वपूर्ण युद्धों और साहसी इतिहास से भरपूर है।

महाराणा प्रताप सिसोदिया राजवंश के राजा थे और वे उदयपुर, मेवाड़ के राजा थे।

मेवाड़ का इतिहास_Rajasthan GK Mock Test_Rajasthan Of History_Rajasthan Gk Notes