-->

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना(PMFBY)_PM Kisan Yojana_PM Fasal Bima Yojana

 प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PMFBY) : 

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (" PRADHAN MANTRI FASAL BIMA YOJANA "), 18 फरवरी 2016 को कैबिनेट द्वारा मंजूरी प्राप्त करके किसानों को फसल से होने वाली हानियों से बचाने का एक महत्वपूर्ण कदम है। इस योजना के माध्यम से हमारे किसानों को प्राकृतिक आपदाओं के खिलाफ सुरक्षा मिलेगी और उन्हें अनिश्चितताओं से मुक्ति मिलेगी।
  • कम प्रीमियम: 
प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना योजना के तहत, किसानों को खरीफ फसलों के लिए सिर्फ 2% और रबी फसलों के लिए केवल 1.5% प्रीमियम देना होगा, जो कि एक सीमा तक कम हो सकता है। इससे किसानों को बड़े पैम्बर में सुरक्षा मिलेगी और उन्हें आराम से प्रीमियम भुगतान करने का अवसर मिलेगा।
  • आसान भुगतान: 
योजना ने प्राकृतिक आपदाओं के कारण हुई फसल की हानि के खिलाफ किसानों को बहुत निचले स्तर पर बीमा की किस्तें देने का निर्णय लिया है, जिससे हर  किसान को अपनी आर्थिक  स्थिति के अनुसार आसानी से भुगतान करने की सुविधा होगी।
  • व्यापक सुरक्षा:
इस योजना से केवल खरीफ और रबी की फसलें ही नहीं, बल्कि वाणिज्यिक और बागवानी फसलों के लिए भी सुरक्षा मिलेगी, जिससे हमारे किसान अपने विभिन्न प्रकार की फसलों के लिए सुरक्षित महसूस करेंगे। विशेषकर, वाणिज्यिक और बागवानी फसलों के लिए 5% प्रीमियम (किस्त) का भुगतान करने का विकल्प होगा, जो किसानों को आर्थिक दृष्टि से भी लाभान्वित करेगा।
  • आत्मनिर्भरता का मार्ग: 
 इस रूप में, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना ने हमारे किसानों को विभिन्न परिस्थितियों से बचाने के लिए एक सुरक्षित और सुरक्षित माध्यम प्रदान किया है और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने का मार्ग प्रशस्त किया है।
Table of Contents


प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना(PMFBY)_PM Kisan Yojana_PM Fasal Bima Yojana


"खेतों का साहस, हरियाली की राह में। किसान, तू है देश की शान, तू है अन्नदाता वीर!"

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना  (PMFBY)के तहत पैसे कैसे मिलेगा :

PM Kisan Yojana "PMFBY"से पैसे प्राप्त करने के लिए आपको कुछ आसान चरणों का पालन करना होगा:
  • क्लेम प्रक्रिया का पालन:
पैसे प्राप्त करने के लिए सबसे पहले, किसानों को अपने क्षेत्र में होने वाली किसी भी हानि को 72 घंटे के भीतर बीमा कंपनी को रिपोर्ट करना होगा।
  • ऑनलाइन क्लेम प्रक्रिया: 
बीमा कंपनी द्वारा स्थानीय ऑफिस या आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से क्लेम प्रक्रिया ऑनलाइन शुरू होगी।
  • आवश्यक दस्तावेज़ और सत्यापन:
किसान को अपनी कृषि भूमि के सबूत और हानि की फोटो जमा करनी होगी, जिससे क्लेम की सत्यता सत्यापित की जा सके।
  • आदेश प्राप्ति: 
यदि क्लेम स्वीकृत होता है, तो किसान को अपने बैंक खाते में प्राधिकृत राशि की आदेश प्राप्त होगी।
  • स्थानीय सहायता केंद्रों से मदद: 
यदि किसान को क्लेम प्रक्रिया में कोई समस्या आती है, तो वह स्थानीय सहायता केंद्रों से मदद प्राप्त कर सकता है।

इस प्रकार, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के अंतर्गत पैसे प्राप्त करने के लिए किसानों को सरल और सुविधाजनक प्रक्रिया का पालन करना होगा।

प्रधानमंत्री फसल बीमा (PMFBY) योजना सूची:

1. प्राकृतिक आपदाओं से सुरक्षा: इस योजना के तहत, यदि प्राकृतिक आपदाएं या रोग किसान की फसल को हानि पहुंचाते हैं, तो सरकार द्वारा उनका पूरा नुकसान भुगतान किया जाएगा।

2. बीज का पैसा: योजना के अंतर्गत, किसानों को अगर बीज की खरीद के लिए भी पैसा चाहिए, तो उन्हें भी सरकार से सहायता मिलेगी, जो उनकी कृषि को सुनिश्चित करेगी।

3. कर्ज से मुक्ति: यह योजना उन किसानों को भी लाभ पहुंचाती है जो कर्ज के कारण आत्महत्या की दिशा में बढ़ते हैं। इससे उन्हें कर्ज से मुक्ति मिलती है और वे आत्मनिर्भर होते हैं।

4. किसानों की आत्महत्या से बचाव: योजना का एक मुख्य उद्देश्य है किसानों को उनके आर्थिक दुःखों से निकालकर उन्हें सुरक्षित और समर्थनपूर्ण बनाना। इससे किसानों की आत्महत्या से बचाव होगा।

इस प्रकार, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना न केवल किसानों की फसलों की सुरक्षा करती है, बल्कि उन्हें विभिन्न कठिनाईयों से निकालकर उन्हें सशक्त बनाने का भी लक्ष्य रखती है।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PMFBY) की विशेषताएं और लाभ:

1. प्राकृतिक आपदाओं का कवर: 

योजना के तहत, प्राकृतिक आपदाओं से होने वाली आर्थिक हानि पर सरकार द्वारा कुछ हद तक कवर किया जाता है, जिससे किसानों को सुरक्षा मिलती है।

2. कम प्रीमियम: 

किसानों के लिए बीमा प्रीमियम को बहुत ही कम रखा गया है, जिससे छोटे किसान भी इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।

3. विभिन्न फसलों के लिए विशेष प्रीमियम:

सभी खरीद फसलों के लिए किसानों को केवल 2% और सभी रबी फसलों के लिए 1.5% की प्रीमियम राशि का भुगतान करना होता है।

PM Kisan Yojana_PM Fasal Bima Yojana


4. वाणिज्यिक बागवानी के लिए 5% प्रीमियम: 

वार्षिक वाणिज्यिक बागवानी फसलों के मामले में किसानों द्वारा भुगतान किया जाने वाला प्रीमियम राशि केवल 5% होता है, जो उन्हें आर्थिक दृष्टि से भी लाभान्वित करता है।

5 . वैकल्पिक लाभ:

2020 के बाद, यह योजना सभी किसानों के लिए वैकल्पिक हो गई है, जिससे सभी किसान इसका लाभ उठा सकते हैं।

6. Post-harvest नुकसान का शामिल होना: 

फसल काटने के 14 दिन तक यदि फसल खेत में है और उस दौरान कोई आपदा के कारण फसल नुकसान होता है, तो किसानों को दावा राशि प्राप्त हो सकती है।

7. टेक्नोलॉजी का उपयोग:

योजना में टेक्नोलॉजी का उपयोग करके नुकसान का आकलन शीघ्र और सही होता है।

8. ऑनलाइन भुगतान: 

बीमा राशि सीधे किसान के बैंक खाते में ऑनलाइन रूप से जमा की जाती है, जिससे प्रक्रिया सुगम होती है।

"अन्नदाता का हर कदम, हमारे देश को करीब ला रहा है विकास की ऊँचाइयों की ओर।"
 "खेतों में कठिनाईयों का सामना करना, सूरज की किरणों के साथ। किसान, तू है धरती का रखवाला, तू है हरित क्रांति का सारथी।"