-->

"विश्व बीमार दिवस: स्वास्थ्य सेवाओं और सहानुभूति को बढ़ावा देना"

विश्व बीमार दिवस (World Day of the Sick)

विश्व बीमार दिवस हर वर्ष 11 फरवरी को मनाया जाता है। जिसका मुख्य उद्देश्य बीमारी से पीड़ित लोगो व् उनके देखभाल करने वाले परिवारों के लिए प्रार्थना जाती है। उन्हें बीमारी के विरुद्ध लड़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।विश्व बीमार दिवस की स्थापना का योगदान "पोप जॉन पॉल द्वितीय" को दिया जाता है। पोप जॉन पॉल द्वितीय का यह योगदान विश्वभर में उल्लेखनीय है।  

विश्व बीमार दिवस का इतिहास :

  • 1992 में, पोप जॉन पॉल द्वितीय ने लोगों से बीमार व्यक्तियों और उनकी देखभाल करने वालों के लिए प्रार्थना करने का आग्रह किया।
  • पोप ने 1991 में पार्किंसंस रोग के लक्षण दिखाए, लेकिन 2001 तक इसकी पुष्टि नहीं हुई। एक साल बाद पोप जॉन पॉल द्वितीय अपनी बीमारी के निदान के 1 वर्ष बाद विश्व बीमार दिवस की स्थापना करने के लिए निर्णय लिया। 
  • पहला विश्व बीमार दिवस 11 फरवरी 1993 को मनाया गया।
  • पोप ने पीड़ा के विषय पर विस्तार से लिखा और माना कि यह मसीह के माध्यम से मुक्ति दिलाने वाली प्रक्रिया रही है।
  • उन्होंने पालन की तारीख के लिए हमारी लेडी ऑफ लूर्डेस के स्मारक को चुना, क्योंकि लूर्डेस में बहुत से तीर्थयात्री और पर्यटक धन्य वर्जिन के माध्यम से मैरियन अभयारण्य में ठीक होने का दावा करते हैं। 
  • 2005 में, विश्व बीमार दिवस का विशेष महत्व था क्योंकि बीमार पोप की मृत्यु हो गई थी।
  • 2013 में, पोप बेनेडिक्ट XVI ने आज ही के दिन अपने इस्तीफे की घोषणा की थी, जिसके पीछे उनके गिरते स्वास्थ्य को कारण बताया गया था।
विश्व बीमार दिवस,World Day of the Sick 2024 Theme ,World Day of the Sick History and Motive,current affairs in hindi

विश्व बीमार दिवस 2024 का विषय :

विश्व बीमार दिवस 2024 की थीम - "हीलिंग लव: करुणा और सेवा का गवाह बनना" रखी गई है। यह संदेश बीमारों के उपचार, सुधार और समाज में सामाजिक समर्थन के महत्व को उजागर करता है। यह करुणा, देखभाल और समर्थन के महत्व को बढ़ावा देता है, खासकर बीमारी और पीड़ा के समय में।

विश्व बीमार दिवस का महत्व

  • इस दिन बीमार लोगो के प्रति प्रार्थना और समर्थन का एक महत्वपूर्ण दिन है।
  • बीमारों के लिए सहायता और समर्थन प्रदान किया जाता है।
  • इस दिन को समर्पित करके हम बीमारों के लिए जागरूकता फैला सकते हैं।
  • बीमार लोगो के परिवारों के प्रति सहानभूति बढ़ाने लिए विश्व बीमार दिवस एक महत्वपूर्ण अवसर है।

उदेशय :

  • विश्व बीमार दिवस का मुख्य उद्देश्य बीमारियों के साथ संवेदनशीलता और सामाजिक सहयोग को बढ़ावा देना है। 
  • इस दिन का मनाना उन लोगों की याद करने के लिए होता है जो बीमारियों से पीड़ित हैं, और उनके लिए प्रेरणा और सहानुभूति का एक संदेश भेजना है। 
  • यह एक अवसर होता है जब समाज बीमारों के साथ खड़ा होकर उन्हें समर्थन और उपचार की प्राथमिकता देता है। 
  • विश्व बीमार दिवस के माध्यम से, लोग अपने आसपास के बीमारों के लिए जागरूकता बढ़ाते हैं, उन्हें उपचार और सहायता की दिशा में मार्गदर्शन करते हैं, और सामाजिक समर्थन और सहायता का महत्व जागरूक करते हैं।     
विश्व बीमार दिवस 2024 की थीम क्या है?
विश्व बीमार दिवस 2024 की थीम है - "हीलिंग लव: करुणा और सेवा का गवाह बनना"। इस थीम के माध्यम से करुणा, देखभाल और समर्थन के महत्व को बढ़ावा दिया जा रहा है।
विश्व बीमार दिवस का इतिहास क्या है?
पोप जॉन पॉल द्वितीय ने लोगों से बीमार व्यक्तियों और उनकी देखभाल करने वालों के लिए प्रार्थना करने का आग्रह किया।
विश्व बीमार दिवस की स्थापना कब हुई थी?
पोप जॉन पॉल द्वितीय ने 11 फरवरी 1993 को पहला विश्व बीमार दिवस की स्थापना की थी।
विश्व बीमार दिवस किसने स्थापित किया था?
  • विश्व बीमार दिवस की स्थापना "पोप जॉन पॉल द्वितीय" ने की थी।
  • विश्व बीमार दिवस क्या है?
    विश्व बीमार दिवस हर वर्ष 11 फरवरी को मनाया जाता है। इसका मुख्य उद्देश्य बीमारी से पीड़ित लोगों व् उनके देखभाल करने वाले परिवारों के लिए प्रार्थना जाती है और उन्हें बीमारी के विरुद्ध लड़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।
    विश्व बीमार दिवस का महत्व क्या है?
    विश्व बीमार दिवस के माध्यम से बीमार लोगों के प्रति सहानुभूति और समर्थन का संदेश दिया जाता है। इस दिन को समर्पित करके हम बीमारों के लिए जागरूकता फैला सकते हैं और समाज में समर्थन के माध्यमों की चर्चा कर सकते हैं।